भारतीय तो बनो जरा……

एक अमेरिकी भारत में घूमने के लिए आता है और
जब वापस अमेरिका पहुचता है तो उसका एक
भारतीय मूल का मित्र
उससे पूछता है-
कैसा रहा भारत का दर्शन ??
.
.
.
.
वह बोलता है-
“वास्तव में भारत एक अद्वितीय
जगह है.
मैंने ताजमहल देखा, दिल्ली, मुंबई से
लेकर भारत की हर
वह छोटी बड़ी जगह देखी जो
प्रसिद्द है.
.
.
.
.
वास्तव में भारत केवल एक ही है, कोई
दूसरा नहीं.”
.
.
.
भारतीय अपने देश की तारीफ
सुनकर बहुत खुश
हुआ.
और पूछा”हमारे भारतीय कैसे हैं??”
.
.
.
अमेरकी बड़े ध्यान से देखने लगा, फिर बोला…
“वहां तो मैंने कोई भारतीय देखा ही
नहीं.”
भारतीय पुरुष उसका मुह देखने लगा !!
.
.
.
अमेरिकी बोलता रहा-
“मैं एअरपोर्ट पर
उतरा तो सबसे पहले मेरी भेट मराठियों से हुई,
आगे बढा तो पंजाबी,
हरियाणवी, गुजराती,राजस्थानी , बिहारी,
तमिल और
आसामी जैसे बहुत से लोग मिले.
कहीं हिन्दू मिले तो कहीं सिक्ख, मुस्लिम
और
इसाई मिले…
.
.
.
छोटी जगहों पर
गया तो मेरठी,बनारसी,जौनपुरी, -सुल्तानपुरी ,
बरेलवी मिले…
.
.
.
नेताओं से मिला तो कांग्रेसी,

भाजपाई,
बसपाई,

AAP वाले …

गाँव में गया तो
ब्राह्मण,
क्षत्रिय,

वैश्य और शुद्र मिले.

परन्तु भारतीय तो कहीं मिले

ही नही.???

भारतीय बनो । —कुछ ऐसा करो ,

कुछ ऐसा दिखो कि

भारतीय लगो
जय हिन्द।

Advertisements

14 thoughts on “भारतीय तो बनो जरा……

  1. एक दूसरा पहलु जो गोर करने वाला है, ये भी है कि धीरे-धीरे ये विविधताएं खत्म होते जा रही हैं — language, culture, practices.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s